बिना एसी के भी ठंडा बना रहेगा आपका घर

0

homw, house

    गर्मी के मौसम में जरूरी है घर को ठंडा बनाए रखना। घर ठंडा होने से गर्मियों से जुड़ी कई प्रॉब्लम्स से बचा जा सकता है। यह सही समय है, जब आपको जरूरत है घर का मेकओवर करने की, उसे मौसम के अनुकूल बनाने की। हल्के रंगों के प्रयोग से लेकर, फर्नीचर को सही जगह रखने जैसे कुछ आसान उपाय हैं, जिनकी मदद से आप अपने घर को गर्मियों के लिए तैयार कर सकती हैं :

डिजीटल प्रिंट की बेडशीट-पर्दे

      समर सीजन में कॉटन की बेड-शीट्स अच्छी लगती हैं। कॉटन की बेडशीट को आसानी से वॉश किया जा सकता है। इसमें डिजीटल और फ्लोरल प्रिंट ज्यादा चल रहे हैं। ये आपको 3 डी प्रिंट्स में भी मिल जाएंगी। बेडशीट खरीदते वक्त यह ध्यान रखें कि इसकी लंबाई और चौड़ाई इतनी होनी चाहिए कि इसे मैट्रस के अंदर मोड़ना आसान हो। कमरों में लाइट कलर के पर्दे लगाएं। हल्के रंग के पर्दे धूप से बचाते हैं। आप अपने कमरे में जितने लाइट कलर के पर्दे लगाएंगी, उतना ही आपका कमरा ठंडा होगा। कमरे में लाइट कलर के पिलो और बेडशीट का इस्तेमाल करें। यह देखने में भी अच्छे लगते हैं।

डेकोरेशन में ग्रीन कलर

     घर के वातावरण को पॉजिटिव बनाने के लिए डेकोरेशन में हरे कलर को प्राथमिकता दी जाती है या तो सजावट की चीजों में ग्रीन कलर का यूज किया जाता है। आप एनवायरनमेंट फ्रेंडली इंडोर प्लांट्स रखकर घर के वातावरण और वायु को फ्रेश रख सकती हैं। घर में पर्याप्त ऑक्सीजन और ताजी हवा के लिए घर के अंदर हरे पौधे लगाएं। अगर आपके घर में बालकनी है, तो उसे कवर करने के बजाय खुला रखें और वहां अपने मनपसंद फूलों वाले पौधे लगाएं। इससे घर का वातावरण हेल्दी रहेगा।

छत पर करें पानी का छिड़काव

     घर को ठंडा रखने के लिए सुबह- शाम दोनों टाइम घर की छत पर पानी का छिड़काव करें। इससे घर की दीवारों का टेंपरेचर कम होगा।

इको फ्रेंडली घर

     इको फ्रेंडली घरों को इस तरह तैयार किया जाता है कि अधिक से अधिक रोशनी और हवा घर में आ सके। अगर आप भी इकोफ्रेंडली घर बनाने की सोच रही हैं, तो इसमें रेनवॉटर हार्वेस्टिंग, सोलर वॉटर हीटिंग सिस्टम, सीवेज ट्रीटमेंट प्लान आदि तरीकों पर भी फोकस कर सकती हैं।

    इकोफ्रेंडली घर केवल पैसे की बचत ही नहीं करते हैं बल्कि घर को नेचरल ब्यूटी भी देते हैं। खास बात ये कि इस तरीके से घर बनाने में घर को बनाने की लागत 25 फीसदी तक कम हो जाती है। यही नहीं, इको फ्रेंडली घर बनाने में समय भी बेहद कम लगता है। एनर्जी रिसर्च इंस्टीट्यूट के अनुसार, इस तरह के घरों से ग्रीन हाउस गैसों को 40 फीसदी तक कम किया जा सकता है और गर्मियों में ये कूल बने रहते हैं।

रंग-बिरंगे फूल और हरी पत्तियों वाली सीनरीज

     रंग-बिरंगे फूल, हरी पत्तियों वाली सीनरीज कमरे में लगाएं। इससे ठंडक का अहसास होगा। घर में ठंडक बनाए रखने के लिए कमरे में बिछे कालीन को हटा दें। इससे फर्श ठंडा रहेगा। गर्मी के दिनों में ठंडे फर्श पर नंगे पैर चलने से ठंडक महसूस होती है।

हर्बल गार्डन और ग्रीन स्पेस

     इको फ्रेंडली घर में हर्बल गार्डन और ग्रीन स्पेस की सुविधा भी रहती है। यह घर आपकी जेब के आधार पर मुफीद होते हैं। घर के अंदर मौजूद नेगेटिव एनर्जी निकालने के लिए इंडोर पौधे लगाएं। अपनी सुविधा के अनुसार कुछ खास पौधों को लगाकर आप अपने घर को बेहतर बना सकती हैं। एरेका पाल्म, लेडी पाल्म, बैंबू पाल्म, डरेकेना जैनेट क्रैग, इंग्लिश इवी, पीस लिली जैसे पौधे लगाने से आपके घर के अंदर का पॉल्यूशन खत्म हो जाएगा और पॉजिटिव एनर्जी का संचार होगा।

अपहोल्स्ट्री बदलें

    गर्मियों में डार्क कलर्स की जगह पेस्टल रंग और फूलों वाले नेचरल प्रिंट्स सुखद अहसास देते हैं। अपने कमरे को गर्मियों के लिए तैयार करने के लिए कमरे को हल्के रंगों और ठंडक भरे प्रिंट्स वाली अपहोल्स्ट्री और कुशन कवर्स से सजाएं।

फर्नीचर को सही जगह रखें

     मौसम के अनुरूप अपने फर्नीचर को भी सही जगह रखना जरूरी है। सर्दियों में जहां गुनगुनी धूप का अहसास सुखद होता है, वहीं गर्मियों में अपने फर्नीचर को ऐसी जगह रखना जरूरी हैं जहां सीधी धूप न पड़े। लो हाईट फर्नीचर, फ्लोर कुशन्स गर्मियों में बैठने के लिए अच्छा विकल्प हैं।

रोशनी और हवादार घर

     घर को खुला रखें। घर जितना टाइट रहेगा, उतनी ज्यादा आपको गर्मी लगेगी। ऐसी कंपनी के रंग का चुनाव करें, जिस में सीसा और वीओसी हो ही न। वीओसी में फौर्मैलडिहाइड और ऐसिटैलडिहाइड जैसे खतरनाक केमिकल्स होते हैं, जो सांस नली को प्रभावित करते हैं।

Share :
Share :
source: नवभारत टाइम्स.

Leave A Reply

Share :