मुंबई: 10 साल में बनेंगे 7 लाख घर, कीमतें होंगी 25 फीसदी कम

0

life-insurance-can-help-protect-your-most-expensive-asset-your-home

     जल्द ही मुंबईकरों को एक बड़ी सौगात मिलने वाली है। अगले 10 साल में यहां करीब 7 लाख नए घर बनेंगे, जिससे इनकी कीमतों में 25 प्रतिशत तक कमी आ सकती है। धारावी पुनर्विकास, बीडीडी चाल, एसआरए, म्हाडा और निजी बिल्डर 7 लाख से ज्यादा घर तैयार करेंगे। 2020 के बाद बहुमंजिला इमारतों में नए घर मिलने लगेंगे। सरकार के इज ऑफ डूइंग बिजनेस और नए डिवेलपमेंट प्लान के कारण मुंबई में घरों के निर्माण कार्य में बेतहाशा वृद्धि का अनुमान है।

    फडणवीस मंत्रिमंडल ने मंगलवार को धारावी पुनर्विकास की मंजूरी दे दी। मंत्रिमंडल ने धारावी पुनर्विकास के लिए स्पेशल परपज वीइकल (एसपीवी) मॉडल लागू करने का निर्णय किया है, जिसमें 80 प्रतिशत भागीदारी अंतरराष्ट्रीय निजी कंपनी और 20 प्रतिशत हिस्सेदारी महाराष्ट्र सरकार की होगी। धारावी में करीब 80,000 नए घर बनेंगे। धारावी के विकास को विशेष परियोजना का दर्जा देने से जीएसटी, स्टैंप ड्यूटी और संपत्ति कर जैसे अन्य करों में सहूलियत मिलेगी।

      इसके अलावा, फंजिबल प्रीमियम और प्रीमियम माफी में रियायत मिलने की भी संभावना है। गृह निर्माण मंत्री प्रकाश मेहता ने कहा कि एसआरए, म्हाडा, धारावी पुनर्विकास, बीडीडी चाल, प्रधानमंत्री आवास योजना के अलावा निजी बिल्डर बड़ी संख्या में घर मुहैया करा रहे हैं। इससे मुंबई में घर सस्ते होंगे।

     वहीं रियल इस्टेट विशेषज्ञ पंकज कपूर का कहना है कि यह सरकार का सब्जबाग है। वैसे भी घरों की कीमतें गिरी हुई हैं। म्हाडा ने महंगे घरों की लॉटरी निकाली, तो खरीदार नहीं मिले। धारावी प्रकल्प का हाल सभी के सामने है।

मौके ही मौके:

     दक्षिण मुंबई स्थित बीडीडी चाल की विकास प्रक्रिया शुरू हो गई है। निर्माण कार्य करने वाली कंपनियों की नियुक्ति कर दी गई है। करीब तीन साल बाद बीडीडी चाल के विकास से 10,000 नए घर दक्षिण मुंबई के आलीशान इलाके में उपलब्ध होंगे।
झोपड़पट्टी पुनर्वसन प्राधिकरण (एसआरए) के अंतर्गत मुंबई में 2.50 लाख नए घर बनाने का काम चल रहा है। इससे पहले एसआर ने 1996 से 2014 तक महज 1.76 लाख घर बनाए थे।
नए डिवेलपमेंट प्लान और दूसरे कदमों से भी मुंबई महानगरपालिका क्षेत्र में 3 लाख से ज्यादा घर बनकर तैयार होंगे।

धारावी का विकास:

 2004 में धारावी के पुनर्विकास का निर्णय किया था कांग्रेस-एनसीपी सरकार ने।

2005 में शहरी विकास विभाग ने एसआरए को विशेष योजना प्राधिकरण के तौर पर नियुक्त किया था।

2007 से 2016 तक 5 बार निविदा प्रक्रिया टालनी पड़ी।

2017 में धारावी पुनर्विकास के लिए एसवीपी की मंजूरी दी गई।

22 हजार करोड़ रुपये का निवेश।

80 प्रतिशत निजी और 20 प्रतिशत सरकारी।

350 वर्ग फुट के घर दिए जाएंगे।

200 एकड़ में फैली है धारावी।

90 एकड़ जमीन है रेलवे की।

104 हेक्टेयर जमीन पर 59,160 घर हैं ग्राउंड फ्लोर के।

12,976 औद्योगिक और व्यावसायिक गाले हैं यहां।

कहां मिलेंगे कितने घर:

10 हजार घर बीडीडी चाल के विकास से।

80 हजार घर धारावी पुनर्विकास से।

2.5 लाख घर एसआरए से।

3 लाख घर म्हाडा और निजी विकासकों से।

Share :
Share :
source: नवभारत टाइम्स, मुंबई.

Leave A Reply

Share :