प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत सिर्फ 925 लोग होंगे लाभांवित

0

pmay housing

     शासन ने मंगलवार को वित्तीय वर्ष 2018-19 के लिए प्रधानमंत्री आवास योजना (ग्रामीण) का लक्ष्य निर्धारित कर दिया है। इस साल प्रदेश में दो लाख आवास बनाए जाएंगे। जिसमें लखनऊ के 925 लाभार्थियों को आवास योजना का लाभ दिया जाएगा। जबकि जिलों से 11 लाख 82 हजार 574 आवास की डिमांड भेजी गई थी। जिला ग्राम्य विकास अभिकरण (डीआरडीए) विभाग प्राप्त लक्ष्य को प्रखंडवार निर्धारित करने की प्रक्रिया में जुट गया है। योजना का लाभ वर्ष 2011 की सामाजिक आर्थिक जनगणना में शामिल निर्धारित मापदंड को पूरा करने वाले पात्रों को दिया जाएगा।

लखनऊ से 5468 आवासों की भेजी गई थी डिमांड

    डीआरडीए के परियोजना निदेशक राजेश त्रिपाठी ने बताया कि आवास योजना का लाभ उन्हीं लाभार्थियों को दिया जाएगा जो सरकार द्वारा निर्धारित किए गए मानकों की शर्तों को पूरा करता हो। पक्का मकान, चार पहिया वाहन व सरकारी नौकरी करने वाले लोगों को लाभ नहीं मिलेगा। जनगणना के अनुसार, 6677 लोग आवेदन के पात्र माने गए थे। सत्यापन के दौरान करीब 1600 अपात्र पाए गए। 5468 आवास के लिए शासन को डिमांड भेजी गई थी। शासन ने 925 आवासों का लक्ष्य तय कर दिया है। शासन की मंशानुरूप लोगों को लाभ दिया जाएगा।

बहराइच को सबसे अधिक आवास का लक्ष्य

     योजना के तहत बहराइच को 12257 आवास निर्माण का लक्ष्य मिला है। वहीं, सीतापुर में 11477, उन्नाव में 5985, श्रावस्ती में 1403, रायबरेली में 5076, पीलीभीत में 2905, फैजाबाद में 3082, गोंडा में 7637, खीरी में 7915, बस्ती में 4022, बलरामपुर में 1297, अमेठी में 3782 आवासों का लक्ष्य आवंटित किया गया है। सबसे कम लक्ष्य शामली को मिला है। यहां महज चार आवास बनेंगे।

Share :
Share :
source: नवभारत टाइम्स, लखनऊ.

Leave A Reply

Share :