नगर निगम में नए निर्माण कार्यों का तुरंत होगा भुगतान

0

housing

     नगर निगम में अब होने वाले सभी निर्माण कार्यों का भुगतान कंप्लीशन सर्टिफिकेट के साथ तुरंत किया जाएगा। नगर निगम मुख्यालय में बुधवार को पार्षदों के साथ हुई बैठक में नगर आयुक्त इंद्रमणि त्रिपाठी ने यह फैसला लिया। नगर आयुक्त के मुताबिक पुराने भुगतान के लिए प्रदेश सरकार से विशेष पैकेज की मांग की जा रही है। पार्षदों ने उनके फैसले का स्वागत करते हुए हर संभव मदद और सहयोग का आश्वासन दिया है। नगर निगम में वर्ष 2012 तक के कामों का भुगतान फंसा हुआ है। ठेकेदारों के मुताबिक करीब 200 करोड़ रुपये से ज्यादा का काम नगर निगम ने उधारी पर करवाया है, जिसका भुगतान किया जाना है। वहीं पार्षदों का आरोप है कि पुराने कई कामों में बड़े पैमाने पर गड़बड़ियां भी हुई हैं, जिनकी बिना जांच के भुगतान नहीं किया जा सकता।

पार्षद निधि की पहली किस्त जारी नहीं

     नगर आयुक्त इंद्रमणि ने बजट संकट के बीच पार्षद निधि से होने वाले कामों के तुरंत भुगतान का फैसला किया है। बैठक में पार्षदों ने पार्षद निधि की पहली किस्त अब तक जारी ना होने को लेकर सवाल उठाया। इसपर नगर आयुक्त ने बताया कि अब तक उनके पास यह फाइल पहुंची नहीं है। कांग्रेस पार्षद गिरीश मिश्रा ने उन्हें पिछली कार्यकारिणी और सदन में हुए फैसलों की जानकारी देते हुए बताया कि पिछले आठ महीने से वॉर्डों में विकास कार्य ठप पड़े हैं। पिछले महीने मेयर ने जून में निधि की पहली किश्त के तौर पर 28 लाख रुपये तक के कामों को मंजूरी देने का आश्वासन दिया था, लेकिन अब तक इस संबंध में आदेश जारी नहीं हुआ।

जनता की अनदेखी का आरोप

     शहर भर में गंदे पानी की सप्लाई और ठप पड़े विकास कार्यों को देखते हुए नगर निगम के सपा, कांग्रेस और बसपा पार्षदों ने जल्द से जल्द कार्यकारिणी बुलाने की मांग तेज कर दी है। सपा के वरिष्ठ नेता शफीकुर्रहमान, यावर हुसैन रेशू और राजकुमार सिंह ‘राजा’ ने बताया कि मंगलवार को इस संबंध में मेयर और नगर आयुक्त को पत्र भेजा गया था। अब तक इस बारे में कोई जवाब नहीं मिला है।

Share :
Share :
source: नवभारत टाइम्स, लखनऊ.

Leave A Reply

Share :