बिल्डर ने बायर्स से मांगा 29 अक्टूबर तक का समय

0

29_08_2017-real-estate

     जेएनसी ग्रुप के बिल्डर ने वसुंधरा सेक्टर-3 स्थित निर्माणाधीन साइट (ग्रीन वुड्स) के पैंडिंग कार्यों को दोबारा शुरू करवाने और फ्लैट्स के पजेशन देने से संबंधित प्लान 29 अक्टूबर को बायर्स के समक्ष रखने का आश्वासन दिया है। मंगलवार को जेएनसी कंस्ट्रक्शन प्राइवेट लिमिटेड के एमडी जितेंद्र तनेजा ने यह आश्वासन पुलिस और बायर्स के साथ हुई बैठक में दिया। इस दौरान बिल्डर ने बताया कि वह आर्थिक संकट से जूझ रहा है और अपनी कुछ संपत्ति को बेचकर निर्माणाधीन साइट के कार्यों को फिर से शुरू करने के प्रयास में लगा है। साथ ही दिसंबर तक आवास-विकास परिषद को 70 करोड़ रुपये का बकाया भुगतान करने की योजना भी बना रहा है। बिल्डर ने बायर्स को पजेशन में हुई देरी की पैनल्टी के एवज में क्रेडिट नोट देने का आश्वासन भी दिया है और पजेशन के समय पैनेल्टी के भुगतान का सैटलमेंट करने का भरोसा भी दिया है। आश्वासन के बाद बायर्स ने अपना विरोध प्रदर्शन खत्म कर दिया। मीटिंग से पहले बायर्स ने मंगलवार सुबह इंदिरापुरम थाने में बिल्डर के खिलाफ प्रदर्शन किया था।

साल 2013 में मिलना था पजेशन

      बायर्स से मिली जानकारी के अनुसार, बिल्डर ने साल 2013 में फ्लैट्स का पजेशन देने का वादा किया था, लेकिन चार साल बीत चुके हैं अब तक पजेशन नहीं मिला है। सभी बायर्स ने फ्लैट्स का 95 फीसदी भुगतान कर दिया है। एक बायर का 60 से 80 लाख रुपये बिल्डर के पास फसा है। अब तक एक भी बायर को पैनल्टी का भुगतान नहीं मिला है। वहीं बिल्डर ने अब तक आवास-विकास परिषद को 70 करोड़ रुपये का बकाया भुगतान करना है।

बायर्स की बातचीत:

     बिल्डर ने पैनल्टी के एवज में क्रेडिट नोट देने का आश्वासन दिया है। मंगलवार को पुलिस के समक्ष हुई बैठक में बिल्डर ने फाइनेंशियल क्राइसेस का हवाला देकर 29 अक्टूबर तक का समय मांगा है।     – विनीत उपाध्याय

     बिल्डर पिछले 4 सालों से पजेशन के नाम पर बायर्स को टहला रहा है। कई लोगों की मेहनत की कमाई इस प्रोजेक्ट में लगी हुई है। बिल्डर के आश्वासन से उम्मीद जगी है।      – श्वेता सिंह

     बिल्डर ने पजेशन से संबंधित कई आश्वासन दिए हैं। बिल्डर के आश्वसानों को देखते हुए बायर्स ने विरोध पर विराम लगा दिया है। अगर दोबारा बिल्डर ने धोखेबाजी की तो बड़ा आंदोलन किया जाएगा।     -  रविकांत

     बिल्डर ने बायर्स के साथ बड़ी धोखाधड़ी की है। पुलिस, प्रशासन और संबंधित अथॉरिटी से अपील है कि वह इस मामले में हस्तक्षेप करें और बिल्डर पर नजर रखे।     – धर्मेंद्र मलिक

Share :
Share :

About Author

Leave A Reply

Share :