सृजन एनजीओ ने रीयल स्टेट में लगाया सरकार का पैसा

0

Srijan_1502397102

      सैकड़ों करोड़ का घोटाला करने वाले सृजन एनजीओ ने सरकारी राशि को बड़े पैमाने पर रीयल स्टेट के कारोबार में लगाया। अबतक की जांच में कई चौंकाने वाले तथ्य सामने आए हैं। सरकारी बैंक खाते से एनजीओ के बैंक एकाउंट में ट्रांसफर की करोड़ों की राशि विभिन्न राज्यों और शहरों में भेजे जाने की बात सामने आ रही है।
सूत्रों के मुताबिक सृजन के बैंक खातों से रकम आरटीजीएस और चेक के जरिए दिल्ली, गाजियाबाद समेत अन्य शहरों में भेजे जाने के प्रमाण मिले हैं। अधिकांश रकम रीयल स्टेट से जुड़े कारोबार में लगाए जाने की बात सामने आ रही है। दो बैंकों में सृजन के खातों से पैसे आरटीजीएस या चेक के माध्यम से बाहर भेजे जाने की बात सामने आई है। बैंकों से इस संबंध में और भी विस्तृत जानकारी मांगी गई है। बताया जाता है कि रुपए दिल्ली और गाजियाबाद के अलावा झारखंड, ओडिशा भी भेजे गए।

       स्थानीय व्यापारियों को भी मिले रुपए: सरकारी राशि का गबन करनेवाली सृजन एनजीओ ने सिर्फ रीयल स्टेट और दूसरे कारोबार में ही पैसा नहीं लगाया। बताया जाता है कि भागलपुर के स्थानीय कारोबारी भी इसका लाभ उठाने में पीछे नहीं रहे। बड़ी संख्या में स्थानीय कारोबारियों को भी सृजन द्वारा फायदा पहुंचाने की बात सामने आ रही है। जांच आगे बढ़ने के साथ और भी चौंकाने वाले खुलासा हो सकते हैं।

      भागलपुर में हुई सरकारी गबन राशि 300 करोड़ को पार कर गई है। मुख्य सचिव अंजनी कुमार सिंह ने कहा कि गबन की राशि 302 करोड़ 70 लाख तक पहुंच गई है। इसके और बढ़ने की आशंका है। आर्थिक अपराध इकाई की जांच जारी है। सबसे अधिक भूमि अधिग्रहण का मामला सामने आ रहा है। भू-अर्जन मद का 270 करोड़, नगर विकास का 17 करोड़ 70 लाख और जिला नजारत का 15 करोड़ रुपये है।

Share :
Share :

About Author

Leave A Reply

Share :